Wednesday, April 10, 2024
More

    Typing Kaise Sikhe – टाइपिंग सीखना है तो अपनाएँ ये तरीके

    About Typing Kaise Sikhe: आज कल सफलता की सीढ़ियां चढ़ने के लिए जिस प्रकार से कम्प्यूटर का ज्ञान होना आवश्यक है उसी प्रकार Typing का ज्ञान होना भी महत्पूर्ण हो गया है। कई प्रतियोगी परीक्षाओं में और जॉब में आपसे टाइपिंग का ज्ञान मांगा जाता है। ऐसे में यदि आपको टाइपिंग आती है तो आपकी जॉब लगने के मौके अधिक हो जाते हैं।

    ये ही नहीं यदि आपके पास किसी भी प्रकार का डिप्लोमा या डिग्री नहीं हैं लेकिन आपको टाइपिंग आती है तो आप अपने कम्प्यूटर की मदद से अच्छी रकम कमा सकते हैं।

    दरअसल आज के समय में सोशल मीडिया पर कई ऐसी वेबसाइट हैं जिन पर टाइपिंग आने वाले व्यक्ति ब्लॉगिंग, कंटेंट राइटिंग, कॉपी राइटर, डाटा एंट्री जैसे काम घर बैठे ऑनलाइन कर सकते हैं। तो अगर आप भी ये स्किल सीखना चाहते हैं तो बने रहे हमारे साथ इस पोस्ट में और हम आपको टाइपिंग सीखने से जुड़े सभी बिंदु बताएँगे।

     

    टाइपिंग क्या होती है | What is Typing in Hindi

    दोस्तों टाइपिंग एक प्रकार का कौशल या कला है। बता दें कि किसी भी कम्प्यूटर के कीबोर्ड, मोबाइल के कीबोर्ड या लेपटॉप के कीबोर्ड की मदद से किसी भी शब्द या अक्षर को कम्प्यूटर, लेपटॉप, मोबाइल में बनने वाले डॉक्यूमेंट, पेज, फाइल पर अंकित या लिखने की प्रक्रिया को टाइपिंग कहा जाता है।

    आसान शब्दों में कहा जाए तो टाइपिंग तकनीकी लेखन की एक कला है जिसमें आप कीबोर्ड के keys पर उँगलियाँ रखकर keys को दबाकर अपना पसंदीदा लेखन करते हैं।

     

    टाइपिंग के प्रकार | Types of Typing in Hindi

    Typing kaise sikhe इसे जानने से पहले यह जानना जरुरी है कि आखिर टाइपिंग कितने प्रकार की होती है। तो आपको बता दें कि कम्प्यूटर में टाइपिंग मुख्य रूप से दो तरह की देखने को मिलेगी जिसको नॉन-यूनिकोड (गैर-यूनिकोड) और यूनिकोड के नाम से जाना जाता है।

    यदि आपने नॉन-यूनिकोड (गैर-यूनिकोड) और यूनिकोड का नाम पहली बार सुना है तो हम आपको दोनों टाइपिंग के विषय में विस्तार से बताने वाले हैं।

     

    1. नॉन-यूनिकोड | Non Unicode Typing

    नॉन-यूनिकोड विधि का प्रयोग यूनिकोड विधि आने से पूर्व किया जाता था। आपको बता दें कि नॉन-यूनिकोड में वर्ड प्रोसैसर में पुराने font का उपयोग किया जाता है एवं इस प्रकार की टाइपिंग का प्रयोग छपाई आदि के कार्यों को करने के लिए किया जाता था। नॉन-यूनिकोड की खास बात यह है कि इस विधि में केवल छपाई के लिए ही हिंदी टाइपिंग का इस्तेमाल हो सकता है अर्थात कम्प्यूटर के अन्य स्थानों पर हिंदी टाइपिंग का इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है।

     

    2. यूनिकोड | Unicode Typing

    यूनिकोड टाइपिंग शुरू से नॉन-यूनिकोड से बेहतर व सुविधाजनक एक नई विधि है जिसके माध्यम से किसी भी keyboard layout का इस्तेमाल करके आसानी से हिन्दी टाइपिंग कर सकते हैं। यूनिकोड विधि की खास बात यह है कि आप हिंदी टाइपिंग का इस्तेमाल कम्प्यूटर के अन्य स्थानों पर भी कर सकते हैं।

     

    टाइपिंग कैसे कर सकते हैं | How to do Typing

    दोस्तों यदि आप यह विचार कर रहे हैं कि टाइपिंग किन-किन प्रकारों से कर सकते हैं तो आपको बता दें कि आप टाइपिंग तीन प्रकार से कर सकते हैं।

    • कीबोर्ड टाइपिंग
    • टच टाइपिंग
    • वॉइस टाइपिंग

     

    टाइपिंग कैसे सीखें | Typing Kaise Sikhe

    टाइपिंग मुख्य रूप से दो प्रकार की होती है लेकिन विभिन्न भाषाओं के अंतर्गत टाइपिंग कई प्रकार की होती है जिसमें से सबसे अधिक हिंदी टाइपिंग व इंग्लिश टाइपिंग का इस्तेमाल किया जाता है। यदि आपको हिंदी या इंग्लिश में टाइपिंग करना नहीं आता है एवं आप टाइपिंग करना सीखना चाहते हैं तो अब हम आपको बताने वाले हैं कि आप टाइपिंग कैसे सीख सकते हैं।

     

    कैसे सीखें हिंदी टाइपिंग | Hindi Typing Kaise Sikhe

    दोस्तों हिंदी भाषी लोगों को हिंदी बोलना जितना आसान होता है उतना ही हिंदी में टाइपिंग करना कठिन होता है। इसलिए हिंदी टाइपिंग का ज्ञान लगभग 20 व्यक्तियों में से 1 व्यक्ति को होता है। यदि आपको भी हिंदी टाइपिंग नहीं आती है तो अब हम आपको इसे सीखने के कुछ तरीके बताते हैं।

    1. कीबोर्ड़ पर उंगलियां रखने का तरीका

    Typing kaise sikhe

    टाइपिंग करने से पहले कीबोर्ड पर सही क्रम में उंगलियां होना आवश्यक हैं। बता दें कि बाएं हाथ की चार उंगलियां A, S, D, F पर होनी चाहिए एवं अंगूठा Space key पर होना चाहिए व दाएं हाथ की चारों उंगलियां J, K, L और ; पर तथा अंगूठा Space key पर होना चाहिए।

    आपको बता दें कि A, S, D, F और J, K, L, ; को Home Row Keys कहा जाता है जिसकी मदद से आप सही क्रम में टाइपिंग कर सकते हैं।

     

    2. Typing सीखने का तरीका (Step By Step)

    (i) पहले दिन व दूसरे दिन आप केवल Home row keys चलाने का अभ्यास करें।

    (ii) दूसरे दिन आप Home row keys के साथ अन्य keys को चलाने का अभ्यास करें।

    (iii) तीसरे दिन आप माइक्रोसॉफ्ट वर्ड ओपन करके कृति देव का font का चयन कर लें। हिंदी अक्षर या हिंदी शब्दों को लिखने के लिए आपको हिंदी keys याद होना आवश्यक है। इसलिए आप हिंदी कीबोर्ड का चार्ट अपने सामने रख सकते हैं या फिर हिंदी कीबोर्ड की keys को याद कर सकते हैं। हालाँकि एक से तीन दिन हिंदी टाइपिंग करने पर हिंदी कीबोर्ड की कीज याद हो जाती हैं।

    (iv) टाइपिंग को बेहतर बनाने के लिए आप नोटपैड, माइक्रोसॉफ्ट वर्ड, GNU Typist, Kiran’s Typing, Typing Master, Rapid Typing आदि सॉफ्टवेर का इस्तेमाल कर सकते हैं।

    (v) हिंदी टाइपिंग सीखने के लिए आप स्टेनो मशीन का इस्तेमाल भी कर सकते हैं। बता दें कि स्टेनो मशीन हिंदी टाइपिंग के लिए बेहद अच्छी मानी जाती है इस मशीन की सहायता से आप हिंदी टाइपिंग की गति को भी बड़ा सकते हैं।

    (vi) हिंदी टाइपिंग आप एक दिन में नहीं सीख सकते हैं इसके लिए आपको प्रतिदिन 2 घंटे अभ्यास करना जरुरी है।

     

    कैसे सीखें इंग्लिश टाइपिंग | English Typing Kaise Sikhe

    यदि आप कम्प्यूटर का इस्तेमाल करते हैं तो आपको इंग्लिश टाइपिंग आना आवश्यक हो जाता है। अब यूं तो हिंदी की अपेक्षा इंग्लिश टाइपिंग सीखना आसान होता है क्योंकि कीबोर्ड के keys इंग्लिश में ही होते हैं लेकिन फिर भी कई लोगों को इंग्लिश टाइपिंग ठीक से नहीं आती होती है।

    तो चलिए आज हम आपको इंग्लिश टाइपिंग कैसे सीखें इसके बारे में बताते हैं। अब उँगलियाँ कैसे रखना है यह तो हम ऊपर देख ही चुके हैं इसलिए सीधे तरीके पर आते हैं।

    (i) सबसे पहले आपको अपनी उँगलियों को सही क्रम में Home row keys पर रखना है।

    (ii) पहले व दूसरे दिन आपको कीबोर्ड के बटन को देख कर शब्दों को टाइप करना है।

    (iii) आपको MS वर्ड या नोटपैड पर प्रतिदिन 2 घंटे अभ्यास करना होगा।

    (iv) शुरुआत के दिनों में आप इंग्लिश के छोटे-छोटे शब्दों का प्रयोग करें। ऐसा करने से कीबोर्ड पर आपकी उँगलियाँ अच्छे से सेट हो जाएँगी।

     

    टाइपिंग की स्पीड कितनी होनी चाहिए | Ideal Typing Speed

    दोस्तों टाइपिंग में कौशल आप तभी प्राप्त कर सकते हैं जब आपकी टाइपिंग स्पीड तेज हो। आपको बता दें कि हिंदी और इंग्लिश टाइपिंग की स्पीड 40 से 50 WPM होनी चाहिए।

     

    टाइपिंग की स्पीड कैसे बढ़ाएं | How to increase Typing Speed

    टाइपिंग स्पीड बढ़ाने के लिए आप प्रतिदिन अभ्यास करने के साथ ऑनलाइन टेस्ट और ऑफलाइन टेस्ट का सहारा लेकर कम समय में टाइपिंग की स्पीड को बड़ा सकते हैं। इसके आलावा टाइपिंग स्पीड को बढ़ाने के लिए कई तरह के Gaming Typing सॉफ्टवेयर आते हैं जिनकी मदद से आप आसानी से टाइपिंग स्पीड को बड़ा सकते हैं।

     

    टाइपिंग करने का सही तरीका | Correct Method to do Typing

    1. टाइपिंग करने के लिए कमर को सीधा रखें और सीधा बैठें।

    2. कम्प्यूटर या लेपटॉप की स्क्रीन से आपके आँखों की दूरी लगभग 40 से 70 सेंटीमीटर होनी चाहिए।

    3. बार-बार कीबोर्ड की तरफ नहीं देखना चाहिए अर्थात उंगलियाँ कीबोर्ड और आँखे कम्प्यूटर की स्क्रीन पर होनी चाहिए।

    4. टाइपिंग का अभ्यास करते समय आपको Home row keys पर ऊंगलियों को सही तरीके से चलाना सीखना होगा।

     

    तो दोस्तों ये थी Typing सीखने से जुड़ी कुछ जानकारी। हम आशा करते हैं कि आप Typing Kaise Sikhe यह समझ गए होंगे। अगर आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूलें और हमें सोशल मीडिया पर फॉलो करें ताकि आपको ऐसी ही जानकारी मिलती रहे।

    हमसे जुड़े रहने के लिए सबसे नीचे दिए हमारे Email letter को फ्री में subscribe करें जिससे कि आप अन्य खबरों का लुफ्त भी उठा पाएं।

    Related articles

    Comments

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    Newsletter

    Subscribe to stay updated.

    Popular articles

    Share article